Atal Pension Yojana

Atal Pension Yojana: निर्मला सीतारमण की जयराम रमेश संग छिड़ी जुबानी जंग, इसमें जानें पूरी जानकारी !

Atal Pension Yojana: सरकार समर्थित पेंशन योजना अटल पेंशन योजना केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और कांग्रेस नेता जयराम रमेश के बीच तीखी बहस का केंद्र रही है।

सीतारमण ने इस योजना का बचाव किया, इसकी सफलता और retirement के बाद असंगठित श्रमिकों को सुरक्षित आय का वादा किया। उन्होंने बताया कि 2015 में अपनी शुरुआत के बाद से, इस योजना ने 9.1% का मजबूत रिटर्न दिया है।

Atal Pension Yojana

दूसरी ओर, जयराम रमेश ने कार्यक्रम की आलोचना की, इसे ‘पेपर टाइगर’ कहा और तर्क दिया कि इसे खराब तरीके से डिज़ाइन किया गया है। उन्होंने सुझाव दिया कि लोगों को उनकी सहमति के बिना शामिल होने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

सीतारमण ने योजना की स्वचालित प्रीमियम भुगतान सुविधा का उल्लेख करके इन दावों का खंडन किया, जो ग्राहकों को बिना किसी परेशानी के अपने भविष्य के लिए बचत करने में मदद करता है।

दोनों नेताओं के बीच बातचीत से अटल पेंशन योजना की प्रभावशीलता और डिजाइन पर विभिन्न Approach सामने आए।

जहां सीतारमण योजना के लाभों के पक्ष में हैं, वहीं रमेश इसके कार्यान्वयन और ग्राहक सहमति के बारे में चिंता जताते हैं। यह चर्चा महत्वपूर्ण है क्योंकि यह retirement के बाद की सुरक्षा के लिए योजना पर निर्भर लाखों लोगों को प्रभावित करती है।

Atal Pension Yojana के लिए Eligibility Criteria क्या हैं?

अटल पेंशन योजना के लिए पात्रता मानदंड इस प्रकार हैं:

अटल पेंशन योजना के लिए पात्रता मानदंड इस प्रकार हैं:

  • Citizenship: भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • Age Limit: आयु 18-40 वर्ष के बीच होनी चाहिए.
  • Contribution Period: कम से कम 20 वर्षों तक योगदान करना चाहिए।
  • Bank Account: आपके आधार से जुड़ा एक बैंक खाता होना चाहिए।
  • Mobile Number: एक वैध मोबाइल नंबर होना चाहिए।

इन मानदंडों का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि भारतीय नागरिक, विशेष रूप से असंगठित क्षेत्र के लोग, नियमित योगदान के माध्यम से सुरक्षित सेवानिवृत्ति का आनंद ले सकें।

Atal Pension Yojana की Remaining amount कैसे जांच सकता हूं?

अपनी अटल पेंशन योजना की शेष राशि की जांच करने के लिए, आप इन चरणों का पालन कर सकते हैं:

  • आधिकारिक एनएसडीएल एपीवाई पोर्टल पर जाएं।
  • ‘एपीवाई ई-प्रान/ट्रांजैक्शन स्टेटमेंट व्यू’ के Option का चयन करें।
  • आप अपने PRAN (Permanent Retirement Account Number) के साथ या उसके बिना आगे बढ़ना चुन सकते हैं।
  • अपना APY शेष और लेनदेन Description देखने के लिए संकेतों का पालन करें।

यह प्रक्रिया आपको आपके योगदान और संचित pension amount पर नवीनतम विवरण प्रदान करेगी।

यदि मैं कोई योगदान देने से चूक जाऊं तो क्या होगा?

यदि आप अटल पेंशन योजना में योगदान देने से चूक जाते हैं, तो कुछ penalty हैं:

रुपये तक के मासिक योगदान के लिए। 100 रुपये जुर्माना है. 1 प्रति माह.
रुपये के बीच योगदान के लिए. 101 से रु. 500 रुपये जुर्माना है. 2 प्रति माह.
रुपये के बीच योगदान. 501 से रु. 1,000 रुपये खर्च होते हैं। प्रति माह 5 जुर्माना।
रुपये से अधिक के योगदान के लिए. 1,001 रुपये जुर्माना है. 10 प्रति माह.

यदि योगदान 6 महीने तक चूक जाता है, तो आपका खाता फ्रीज कर दिया जाएगा, और यदि 12 महीने तक चूक जाता है, तो खाता बंद कर दिया जाएगा। ब्याज सहित जमा राशि वापस कर दी जाएगी। इन penalty से बचने और योजना का लाभ सुनिश्चित करने के लिए नियमित योगदान बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

इसे भी पढ़े — PM Kisan Yojana 17th Kist Installment 2024: यहां से जाने PM किसान योजना का 17वीं क़िस्त पैसा कब आएगा?

यदि मैं retirement से पहले योजना से बाहर निकलना चाहूँ तो क्या होगा?

यदि आप 60 वर्ष की सेवानिवृत्ति की आयु तक पहुंचने से पहले अटल पेंशन योजना से बाहर निकलने का निर्णय लेते हैं, तो विचार करने के लिए कुछ बातें हैं:

  • Voluntary Exit: यदि आप 60 वर्ष की आयु से पहले स्वेच्छा से योजना से बाहर निकलने का विकल्प चुनते हैं, तो आपको खाता रखरखाव शुल्क काटने के बाद, उन पर अर्जित वास्तविक ब्याज के साथ अपना योगदान वापस मिल जाएगा। हालाँकि, आपको सरकारी सह-योगदान या उस हिस्से पर अर्जित ब्याज नहीं मिलेगा।
  • बीमारी के कारण बाहर निकलना (Exit Due to Illness): लाइलाज बीमारी जैसी असाधारण परिस्थितियों में भी समय से पहले बाहर निकलने की अनुमति है। ऐसे मामलों में, आपको संचित धनराशि प्राप्त होगी, जिसमें आपका योगदान, सरकार का योगदान और दोनों पर रिटर्न शामिल है।
  • अभिदाता की मृत्यु (Death of Subscriber): 60 वर्ष की आयु से पहले ग्राहक की मृत्यु की दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में, पति या पत्नी के पास या तो उनके नाम पर एपीवाई खाता जारी रखने या खाता बंद करने और धनराशि प्राप्त करने का विकल्प होता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जल्दी बाहर निकलने का मतलब है कि आप उन लाभों से वंचित हो जाएंगे जो सेवानिवृत्ति की आयु तक योजना में बने रहने पर उपलब्ध होते। विस्तृत प्रक्रियाओं और फॉर्मों के लिए, आपको आधिकारिक एपीवाई दिशानिर्देश देखना चाहिए या अपने बैंक से संपर्क करना चाहिए।

इसे भी पढ़े — Pradhanmantri Vishwakarma Yojana 2024 : सरकार देगी अब आपके काम को पहचान मिलेगा 3 लाख तक क लोन

इसे भी पढ़े — Sukanya Samriddhi Yojana: अप्रैल-जून 2024 के लिए नई ब्याज दरें जान ले आप भी !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top